Ravi ki duniya

Ravi ki duniya

Friday, January 25, 2013


 The Mayan civilization, it seems had long predicted the doom of the world. Later, when nothing happened and life moved about, with its usual turbulence and tranquility, it was said that by Mayan civilization what they probably meant was Mayawati Government.

            The intellectuals are at it, all over again with gusto and busy discussing as to when and where, this end set in at first place.  As always, the wise people differed immensely on every statement, every opinion and disputed every hypothesis.  The chain of events in India in recent past, however, has made these T.V. generated and Genetically Modified intellectuals paused from their filibuster and take notice.

            Long long ago, once upon a time there existed an enchanting land of gold err of gold buyers in the mysterious East.  This land was called by different names by different segments of society- Bharat, India, Indraprastha, Aryavrata.  From invaders to plunderers to politicians, the land was repeatedly invaded so many many times that in times to come they named it 'Invaded' and later it came to called India.  The attraction of gold and land was so dazzling that Kings after Kings made Delhi their Capital. The Capital city had all the trappings of a world class city and patriots added to its splendor from one game to another be it Asiad or Commonwealth.  The roads were so very broad that the motorcade of limousines could effortlessly negotiate the curves and crossings so as to take them -The people’s representatives to another world of infinite joy, opulence and Swiss banks.  The palace was always abuzz with intrigues of courtiers who were countless in number and would always be seen in immaculate White, as white as the bloodless, food less and waterless faces and eyes of the subjects who were waiting to be eaten by human vultures in other parts of this land of Gods.  Real vultures by then were extinct thanks to multinational Pharma companies and our Babu-Neta nexus (read greed).  The ruling class was, indeed a class apart.  In heart of hearts they looked down upon the people so much that it was a kind of M.H.S. (Mutual Hate Society) while the ruling class had all the resources be it coal, 3G, Diesel, Cooking Gas, Land and Foreign jaunts, the people were relegated to live from one increment to another which was once in a year and from one Pay Commission to another which was once in 10 years.

            The opulence and sheer luxuries were so commonplace among the ‘Haves’ that it was difficult to know whether they are intoxicated half asleep or walking in sleep due to dark glasses they donned.  Though the politicians, mafia kings hated the poor in general but their favorite hobby was to bring newer and newer novel ways to mesmerize and lead the voters to polling booth to vote in their favor every 5 years. The deepest excavation has revealed hundred thousands of inauguration plates and foundation stones without any structure or even foundations.

            A group of thinkers opine that this was the twilight zone ultimately setting in the Dark Age in India.  Neta–Babu–Corporate formed a Trinity which was more omnipresent, more omniscient and more omnipotent than the Almighty Brahma Vishnu, Mahesh - the Trinity, hitherto, loved, feared and worshiped in India.

            The political parties were always on the look out as to how to seduce electorate what will wean them away from rival camp and enchant them to theirs.  Money became a password for all the domains. So much confidence was reposed in money that it was freely used to win no-confidence motion in Parliament – the parlor where the politicians mingled and worst of foes became friends.  Seeing this, electorate too had matured.  They would take wine from one, wealth from another and vote for the third candidate belonging to their sub-caste.

            The political commentators and analysts were dime a dozen.  They were always busy running from one TV channel to another.  They had a view point every day on every thing under the Sun, whether in their view or not.  They were a locust swarm and thought they are awakening the masses and thereby helping in building that hunger-free and misery-free El Dorado.

            The Society had a ‘society’ within, which was most powerful and had no qualms of liberally exhibiting it as much as law will permit.  Thus, all the newspapers carried page 3 where all the cream de la cream (or so they thought) converged over cocktail/fashion show charity ball to lament at the poor India and poorer Indians.  Beside Godmen Babas on every morning channel, cinema was opium of masses.  Movies in its nascent stage were Black and White but later acquired different colors/hues leading to wider sale and usage of commodities as varied as Fevicol, Zandu Balm,Fire brigade and above all commoditization of women folk.  The Trinity of Babu-Neta-Corporate was all powerful and formed the Mandarin class of that era.  Close second was another Trinity- Police-Doctor-Lawyer. So the widely accepted general belief was that even if you save yourself from the wrath of first trinity, the second trinity will catch up with you and punish or protect you depending on what you are and who you are (where you are became superfluous) as this trinity too was omnipresent from PoK to PoK (Pak occupied Kashmir to People Occupied Kerala).

            While this down slide was the steepest to meet its nadir, the subjects were crying and wailing at different spots in the Capital, prominent being 3 G (India) Gate, (Ramlila) Ground and (Raj) Ghat.  Courtiers were doing overtime and were in cut-throat competition to prove before the powers that be that they were the principal sycophants several notches above their nearest rival.  They and they alone could feel the pulse of public.  Politicians were busy innovating newer and more and more novel methods how to be-fool public.  Their main concerned being precious vote in their favor.  Caste consideration, nepotism, favoritism, regionalism and religious fanaticism were the order of the day.  Nobody raised eyebrows, as all were having downcast eyes for one reason or the other.  How to become rich and rich overnight was the preoccupation of one and all, ruler and ruled alike. Sky was the limit, nay, sky was not the limit.  Lofty schemes such as ‘Double your money’ to ‘A to Z massage centers’ and ‘Escort services’ were leaving nobody un-massaged and un -fleeced.

            Circa 2012, 16th December, is the Black Day when the Dark Age completely overtook and blackened the face of Bharat i.e. India and ‘We The People of India’ had  put to shame the mankind in general and Indians in particular.

Wednesday, January 16, 2013

Friday, January 4, 2013

व्यंग्य : कलियुग का स्थापना काल

विद्वानों में कलियुग के स्थापना काल तथा पृथ्वी के किस भू-भाग पर इसका सर्वप्रथम आगमन हुआ इसे ले कर मतभेद हैं लेकिन पिछले दिनों की घटनाओं से स्थिति साफ़ हुई है और भारत नामक देश बार बार चर्चा में आया है 

प्राचीन समय की बात है भारत वर्ष में एक नगर था दिल्ली. यह नगर सुदूर पूर्व में अपनी रुपहली छटा के लिए जाना जाता था. एक के बाद एक राजा इस नगर को ही अपनी राजधानी बनाते रहे थे. वहाँ के बृहद राज मार्ग तथा राजमार्ग के दोनों ओर घने छायादार वृक्ष थे. महल के तथा राजा के अनेकानेक व्यस्त कार्यालयों के व्यस्ततम कर्मचारी वहाँ केलि-क्रीडा करते न थकते थे. वे अनेकानेक इंडोर गेम्स को आउट डोर में खेला करते थे. इसके अलावा प्रेमी-जन पीढ़ी दर पीढ़ी प्रेम का राग अलापते थे. साथ साथ जीने मरने की झूठी शपथ लेते और छल प्रपंच रचते थे. स्थान स्थान पर फुव्वारों की रंगीन आभा देखते ही बनती थी. यद्यपि राज्य में जल का, विशेषकर पेय जल का अभाव था. प्रजा को पेय जल सुलभ नहीं था. यद्यपि तब तक सुलभ शौचालय आ गए थे. इतिहासकार ऐसी पुष्टि करते हैं. राजधानी की रंगीनियां देखते ही बनती थीं. बड़े बड़े राजमहल, धनाढ्य और राज सभा के सभासद अपने अपने भव्य विशाल भवनों में विश्राम करते थे. एक समय ऐसा आया कि अधिकतर सभासद और राजा विश्राम तंद्रा में ही लीन पाये जाते थे. और जब तब  तंद्रा टूटती भी तो  वे इस जोड़ तोड़ और युक्ति में व्यस्त रहते कि कम से कम समय  में कैसे अधिक से अधिक धन संग्रह किया जाये. विशाल आकार की उद्घघाटन पट्टिकाओं के अवशेष सर्वत्र खुदाई में मिले हैं. विदेशों में धन सुरक्षित रहेगा इस लालसा में लोगों के स्विट्ज़रलैंड नामक देश में अनेक छद्म नामों से खाते / संदूकची पाईं गयीं हैं.

यहीं से भारत वर्ष के पतन के युग का सूत्रपात बताते हैं. लोक लुभावन सार्वजनिक वक्तव्य प्रचुर मात्रा में दिये जाते थे. सभी राजनैतिक दलों में एक चिरन्तन होढ़ लगी रहती थी की अपने अपने वस्तु नृत्य ( आइटम डांस) से कौन अधिक से अधिक मतदाताओं को रिझा सकता है. मतदाता भी कम चतुर न थे. एक से मदिरा लेते, दूसरे से कंबल, तीसरे से स्वर्ण मुद्रा. तथा मतदान दिवस पर अपना मत किसी चौथे व्यक्ति को दे आते थे और इस प्रकार बाकी तीनों का चौथा सम्पन्न कर दिया करते थे.

बुद्धिजीवी वर्ग की भरमार थी. वे टिड्डी दल की भाँति शहर-शहर, नुक्कड़-नुक्कड़, चैनल- चैनल मंडराया करते थे. वे सदैव मुद्दों की जुगाली करते पाये जाते. वे एक नए काल्पनिक संसार की संरचना में व्यस्त रहते. उन्हें अपने परिवेश से, अपने राजा से, अपने राज्य से यहाँ तक कि अपने आप से वैराग्य था. ये वैराग्य इस सीमा तक पहुँच चुका था कि वे  इनके अस्तित्व के साथ साथ अपने अस्तित्व को भी घोर निंदा से देखते.

समाज में समाचार पत्र के पृष्ठ तृतीय पर अपने चित्र  देखने दिखाने की एक गला काट प्रतियोगिता सी निकल पड़ी थी. अक्सर इस पृष्ठ पर स्थान पाने के लिए माताएँ बहनें अल्पतम परिधान में रहतीं थीं. बल्कि परिधान रहित  होने को भी तत्पर थीं. इस युग में एक विधा चलचित्र की भी अपनी भरपूर तरुणाई में थी. उसमें विभिन्न प्रकार की त्वचा विशषज्ञ अपनी अपनी त्वचा का सार्वजनिक तौर पर दिग्दर्शन-प्रदर्शन कर भूरि-भूरि प्रशंसा बटोरती थीं. इसके लिए जो भाव-भंगिमायेँ वे अपनाती थीं तथा गीतों के जो शब्दांश मिले हैं उससे ज्ञात होता है कि चोली, स्कर्ट, सैयां, गोरी, कांटा, चमेली, बिजली, फेविकोल, झँडू बाम, फायर ब्रिगेड आदि विशेष आयोजन और प्रयोजन की वस्तुएं थीं.

शनै शनै एक ऐसे संक्रमण काल से यह राज्य गुजरा जहाँ स्त्री को देखने मात्र से जन साधारण में कुछ ऐसे कीटाणुओं का संचार होता था कि वे बलात उस से संबंध बनाना चाहते थे. इस में चल-दूरभाष (मोबाइल) की और संगणक अंतर्जाल ( इंटरनेट ) जैसे उपकरणों को विशेष दूत की सी भूमिका में हम पाते हैं. 

इस दिशा में प्रजा तेज़ाब डालने से ले कर बलात उठा ले जाने तथा घर में घुस कर संबंध बनाया करते थे. सुनसान स्थान की अपेक्षा भीड़-भाड़ वाले स्थानों, राजमार्गों  और श्याम वर्ण काँच की खिड़कियों सज्जित वाहनों निजी तथा सार्वजनिक दोनों का व्यापक उपयोग होने लगा था. अपराधी अपराध करके अपनी रक्षा हेतु स्वयं ही प्रहरी की शरण में चले जाते थे. प्रहरी ही अपनी विलक्षण प्रतिभा से उन्हें एक ही समय में दूसरे स्थान पर दिखने के गुरु मंत्र बता देते थे. वे उन तिलिस्मी क्रियाओं में पारंगत थे जिनमें मृतक को जीवित तथा जीवित को मृत आसानी से घोषित किया जा सकता था. इस मायाजाल के अनेकानेक लाभ थे. किन्तु वे वर्तमान अनुसंधान का विषय नहीं.

प्रहरी, चिकित्सक तथा विधिकों की ऐसी प्रगाढ़ तिकड़ी थी की इस के आगे टिक नहीं पाती थी--  चालाकी हो या ईमानदारी. ये तीनों मिल कर तीन लोक से न्यारे लोक की रचना में सक्षम थे अर्थात इस लोक के वास्तविक विश्वकर्मा थे वे.

एक समय ऐसा आया कि आर्यवर्त रसातल की ओर द्रुतगति से अग्रसर होने लगा. प्रजा त्राहि त्राहि कर रही थी. राजा, रानी, युवराज, मंत्री, महामंत्री, सभासद सभी व्यस्त थे तथा दो के कैसे बाईस बनायें जाएँ इस जुगत में रात दिन लिप्त रहते थे. इस पूर्णकालिक गतिविधि से जैसे ही विश्राम के दो पल मिलते उसमें पुनः वे व्यस्त हो जाते की जन साधारण को किस विधि से अपने पक्ष में मतदान कराया जाये. मतगणना की कौन सी पद्धति अपनाई  जाये  तथा किस निर्वाचन क्षेत्र से किस जाति विशेष व धर्म विशेष के प्यादे को पदाया जाये  

इस सब के उपरांत जैसे ही विश्रांति आती वे विदेशगमन अथवा राग विलास में डूब जाते. यह एक अनिवार्य आवश्यकता बन गई थी. राजकीय वर्ग हो या कुलीन वर्ग सभी लीन थे. सामाजिक मूल्य यह वाक्य अपनी अस्मिता खो चुका था. सभी धन लिप्सा में बौराए बौराये अनवरत गहरे गर्त में गिरते जा रहे थे. किन्तु वे सभी प्रसन्न थे. असंतोष और चिंता थी तो मात्र एक--- उनका बुद्धिहीन पड़ोसी अथवा पड़ोसी से भी अधिक बुद्धिहीन सगे- संबंधी इस स्पर्धा में कहीं उनसे आगे न निकल जाएँ.

इस अंतहीन स्पर्धा में राजकीय वर्ग राजनर्तकी की तरह राजकृपा पाने को किसी भी सीमा तक जाने को आतुर था. कोई सीमा थी ही नहीं. सीमा बंधन है. सीमा क्या है ? आपके पंखों को उड़ान न भरने देने का भारी पत्थर है. अतः सभासद इसे भालिभांति समझ कर आत्मसात कर चुके थे. नित नये  स्वांग मंडी में आते थे. जिसमें पैसे दुगना-चौगुना करने से लेकर साथी सेवा (एस्कौर्ट सर्विस ) ए टू ज़ेड मसाज सेवा सम्मिलित थी. यद्यपि ज़ेड तक कोई कोई विरले ही पहुँच पाते थे. अधिकतर तो ई.एफ.जी. तक आते आते अपनी सम्पति, सम्मान, और स्वास्थ्य तीनों से वंचित हो जाते थे.

जैसा कि  ऊपर उल्लेख आया है इस क्षेत्र में निजी क्षेत्र के साथ साथ पी.पी.पी. के अंतर्गत सार्वजनिक क्षेत्र की भी बढ़-चढ़ कर भागीदारी थी. अतः निजी वाहनों में अबलाओं के साथ बल प्रयोग अब सार्वजनिक वाहनों में भी आ गया था और उसके वाहक, संवाहक तथा अन्य कर्मी इसमें अपने तुच्छ जीवन की परवाह न करते हुए कूद पड़े थे. ऐसी ही एक घटना थी जो 16 दिसम्बर सन 2012 को आर्यवर्त के दिल्ली नगर में घटी थी. और उसी से कलियुग की पूर्णतः स्थापना मानी गई है. तभी से आर्यवर्त अनार्यवर्त कहलाया, भारत भार हो गया. और मानव दानव का अन्तर समाप्त हो गया.